हिंदी बीएफ सेक्सी भेज

Image source,दिल्ली के बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स वाली लड़कियां: हिंदी बीएफ सेक्सी भेज, वहां वे तीन सिस्टर्स कैसे चुदी?दोस्तो, तीन बहनों की चुदाई की कहानी के पहले भागचुदाई की प्यासी तीन सगी बहनेंमें मैंने अब तक आपको बताया था कि प्रोफेसर आलोक ने सिमरन की चुत को उसकी पैंटी के ऊपर से ही सूंघना शुरू कर दिया था.

एक्स एक्स एक्स हिंदी फुल

हरलीन अपनी चूचियों पर आलोक का हाथ पाते ही और जोश में आ गयी और उसने अपना हाथ आलोक के खड़े लौड़े पर रख दिया. गोरखपुर का बीएफअपनी एंट्री करवाई और आ गए।सन्नी ने पहले ही अपनी और बाकी दोस्तों की एंट्री करवा दी थी।वहाँ से निकल कर वो घर की तरफ़ जाने लगे। रास्ते में सन्नी को उसके घर छोड़ दिया और आगे निकल गए।दोस्तो, ये अपने घर पहुँचे.

मैंने कहा- देखो मजे लेने है! तो चलो बिस्तर पर और उसे अपने बाहों में उठा कर बिस्तर पर लेटा कर, अपना लण्ड उसकी गांड में दबाते हुए मैंने अपनी एक टांग उसकी टांग पर चढ़ा दिया और उसे दबोच लियादोनों हाथों से चूचियों को पकड़ कर मसलते हुए बोला- नखरे क्यों दिखाती है?खुदा ने हुस्न दिया है और क्या मार ही डालोगी?अरे हमे नहीं दोगी तो क्या आचार डालोगी, चल आजा और प्यार से अपनी मस्त जवानी का मजा लेते हैं. नंगी पिक्चर दिखाओ सेक्सीक्योंकि लगभग आठ माह बाद मेरी छाती पर किसी मर्द का स्पर्श हुआ था।उन्होंने मेरी शर्ट के बटन खोल दिए और मेरी पैन्ट की बेल्ट खोलकर बटन खोला, फिर धीरे से ज़िप खोल कर धीरे-धीरे मेरी पैन्ट उतार दी।मैंने भी उनका साथ दिया और पलट कर उन्हें अपनी बाँहों में भर लिया। फिर मैंने उनकी टी-शर्ट उतारी.

मैंने आंटी से कहा ‘आंटी अगर आप बुरा न माने तो मैं आज आपकी गांड मार सकता हूँ?’आंटी ने हँसते हुऐ कहा ‘क्यों नहीं मेरे राजा ! तुम मेरे किसी भी छेद में लंड डाल सकते हो.हिंदी बीएफ सेक्सी भेज: उन्होंने अपनी बाईं टांग को मेरे दाईं टांग के ऊपर चढा दिया और मेरे लण्ड को अपनी जाँघों के बीच रख लिया.

और अभी चुदाई की बात कर रहा हूँ।तो बात ऐसी है कि स्कूल की पढ़ाई के समय से ही मैंने भी इस विषय पर थोड़ा-थोड़ा जानना और पढ़ना शुरू कर दिया था। सेक्स क्या है और चुदाई कैसे करते हैं.लेकिन कोई किसी को रोक नहीं रहा था।मैंने फिर से उन्हें देखा और इस बार होंठ से होंठ चूम कर उन्हें जीभ से चाटने लगा। आंटी भी मेरे बालों को सहलाते हुए मुझे चुम्बन करने लगीं।मैं उन्हें कमर से दबोच के दीवार से सटा कर मदहोशी से उन्हें चूमने लगा, हमारी उंगलियाँ एक-दूसरे में मिलने लगीं.

सेक्सी नंगा विडियो - हिंदी बीएफ सेक्सी भेज

हंसते हुए रेखा को बोला डार्लिन्ग, मेरी नई स्कूटर देखी, बड़ी प्यारी सवारी है, और हौर्न दबाने में तो इतना मजा आता है कि पूछो मत.मैंने दरवाजा पूरा खोल दिया और उस समये मैं ‘वी’ आकार वाली चड्डी में खड़ा था और मेरा लंड उस चड्डी में खड़ा हुआ था।आंटी की नज़र मेरी चड्डी की तरफ़ ही थी। आंटी मेरी चड्डी को एकटक देख रही थीं और थोड़ी देर बाद आंटी वहाँ से हँसते हुए चली गईं और मैं कपड़े बदल कर रसोई में चला गया।मैंने आंटी से पूछा- आप को हँसी क्यों आ गई थी।आंटी- बस यूँ ही.

साथ ही उसका और मेरा मिश्रित कामरस उसकी बुर से एक बड़े थक्के की तरह फ़त्त’ की आवाज के साथ जमीन पर गिरा।वो माल थोड़ा मेरे पैर पर भी लग गया।वो अपनी पैन्टी पहनने लगी.हिंदी बीएफ सेक्सी भेज घृणित टिप्पणी सुन कर दिव्या के कानों में रस सा घुल जाता है। उसकी चेहरा लाल हो जाता है और वो जितनी कठोरता से उस लण्ड को चूस सकती थी.

मैं बहन को होटल में सुकून से प्यार करना चाहता था। वो इस लिए क्योंकि आज बहन की बर्थ-डे जो थी।घर में लुकछिप कर उसकी गाण्ड मार-मार कर अब मुझे मज़ा नहीं आ रहा था.

बीएफ मेरी?

हिंदी बीएफ सेक्सी भेज पर एक दिन वो मुझे अपनी छत पर मिला।मैं भी तुरंत उसके पास गई और सीधे कह दिया- मुझे अभी तक पार्टी नहीं मिली है.

नंगी नंगी वाली?साइकिल वीडियो

हिंदी बीएफ सेक्सी भेज जब मेरी जीभ बुआ जी की भगनाशा से टकराई तो, बुआ जी का बाँध टूट गया और मेरे चेहरे को अपनी जाँघों में जाकर कर उन्होंने अपनी चूत को मेरे मुँह से चिपका दिया.

आंटी की चुत

जोकि मैं कर चुका था।मैंने उसे अपनी कामकला से परिचित कराते हुए एक दिवस अपने घर पर बुला लिया। फिर एक लड़की को किस तरह से संतुष्ट किया जा सकता है.मैं भी पूरी तेज़ी से जीभ लप-लपा कर उनकी चूत पूरी तरह से चाट रहा था, और बीच बीच में अपनी जीभ को उनकी चूत मे पूरी तरह अन्दर डाल कर अन्दर बाहर करने लगा.

हिंदी बीएफ सेक्सी भेज तो वो भी साथ देने लगी।फर मैंने अपने हाथ उसके टॉप में डाल दिए और उसके मम्मों को मसलने लगा।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !करीब ऐसे ही 15 मिनट गुजरे होंगे और मैं उसकी पैन्ट के ऊपर से ही उसकी मुनिया को सहलाने लगा।मैंने महसूस किया कि वो इससे ज्यादा कामुक हो रही है.

सेक्सी पिक्चर गांव की देसी

इंडियन बीएफ सेक्स वीडियोमैंने आँखों से आँखें मिलाईं।उसकी नशीली आँखों को देखा तो मैं मुस्कुरा दिया और डॉली भी पहले थोड़ा मुस्कुराई.

और वो वहाँ से उठ कर निकल ही रही थीं कि मैंने उनका हाथ थाम लिया और बिस्तर की तरफ खींच कर उन्हें बैठने को कहा। उन्हें एकदम से खींचने की वजह से वो झटके के साथ बिस्तर पर गिरीं और मुझे उनके मस्त चूचों के दीदार हुए।मेरी तो आँखें खुली की खुली रह गईं।मामी ने खुद को संवारा और कहा- नहीं मैं कुछ नहीं बताऊँगी।मैंने रिक्वेस्ट किया.आलोक अभी भी सावधानी बरत रहा था कि कहीं हरलीन को ज्यादा दर्द न हो इसलिए वो धीरे धीरे ही लंड चुत में आगे पीछे कर रहा था.

पर आज चाटना पड़ा।मैंने उसकी पैन्टी निकाली और अपने मुँह को उसके पास लेकर गया। उसमें से एक मदहोश कर देने वाली महक आ रही थी।मैं उसकी चूत पर अपनी जीभ फेरने लगा। पहले तो थोड़ा अजीब लगा.

लेकिन वेदों के अनुसार इस हवन में केवल स्वर्गवासी की पत्नी और पण्डित ही भाग ले सकते हैं और किसी तीसरे को इस बारे में खबर भी नहीं होनी चाहिये.

वो पागलों की तरह तड़पने लगी, दो मिनट बाद ही वो झड़ गई, उसकी चूत का पूरा पानी मैं पी गया।फिर वो बोली- प्लीज़ मुझे अब मत तरसाओ. पर टीटी को मेरे ऊपर दया नहीं आई और उसने दूसरा झटके मार कर अपना पूरा सात इंच का लण्ड मेरी गाण्ड में उतार दिया।थोड़ी देर ऐसे ही मेरी कमर को पकड़े रहा और फिर धीरे-धीरे लंड को गाण्ड के अन्दर-बाहर करने लगा। पुरानी याद लौट आई थी.

बिहारी xnxx और फिर प्यार से किस किया, अब मेरी उंगलियाँ और जीभ दोनों एक साथ काम क़र रही थीं।ये सब लगभग 5 मिनट तक चला और नेहा फाइनली झड़ गई।उसने मुझे गले से लगाया और कहा- क्या मैं तुम्हारे लॉलीपॉप को टेस्ट कर सकती हूँ?और मैंने नज़रों से उसे ‘हाँ’ कर दिया और वो उसे बड़े मज़े से लौड़े को देखकर मुझे चूमते हुए बोली- थैंक्स गॉड.

बीएफ सेक्सी वीडियो फुल एचडी में

हिंदी बीएफ सेक्सी भेज: मैं बड़ा खुश था, मुझे उसकी चूत देखने की तमन्ना हुई।मैंने कमली को छोड़ा और गुलाबो की गाण्ड के पास अपना लण्ड अड़ा दिया।साली एकदम से अपनी गाण्ड को आगे-पीछे करने लगी। उसके बड़े-बड़े चूतड़ों में मेरा लण्ड मस्त घिसता जा रहा था। उधर कमली रोटियाँ बनाने में लगी रही। इधर गुलाबो अपने मस्त चूतड़ों से मेरे लण्ड की मालिश कर रही थी।मैंने उसका ब्लाउज ऊपर किया.मैं ढूँढते हुए अन्दर गया तो देखा कि वो दीवार से लग कर सिसकियाँ ले रही थीं और रोए जा रही थीं।मैंने उन्हें समझाते हुए कहा- मैं हूँ न.